KALAM KA KAMAL

Just another weblog

157 Posts

1020 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4431 postid : 1320280

"जहाँ जल वहांं जीवन" 22' मार्च विश्व जल संरक्षण दिवस 2017

Posted On: 22 Mar, 2017 Special Days में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जहाँ जल वहांं जीवन “

water day

हम सभी जानते हैं कि जल हमारे जीवन में सर्वार्धिक महत्वपूर्ण हैं. हम जानते हैं कि पानी वो भी शुद्ध पीने को न  मिले तो कितना मूड खराब हो जाता है. घर से लेकर बाहर दफ्तर मार्केट हर जगह मिनरल वॉटर पीना पसंद करते हैं. दावत व किसी भी कार्यक्रम में शुद्ध पानी पीने की व्यवस्था की जाती है यदि गल्ती से कहीँ न  मिले तो फिर देखिये लोगों का बुरा हाल होता है ? देखा जाय तो हम प्रति दिन सैकड़ो रूपए पानी पीने में खर्च करते हैं. किंतु…परन्तु हम सभी पानी के प्रति अपनी लापरवाही को रोक नहीं पाते हैं . शायद अपनी आदतानुसार या कहीँ कमी है इसके प्रति हमारी जागरुकता की. अर्थात..कारण कोई भी हों जल की नित्य बर्बादी हो रही है. जो अब बिल्कुल भी नहीं होनी चाहिये. अतः इस ओर हम सभी को गम्भीरतापूर्वक सोचना होगा. और जल की बर्बादी रोकने के साथ साथ जल का उचित संरक्षण भी सीखना होगा.

इस विषय में – नेट से प्राप्त कुछ अंश प्रस्तुत कर रही हूँ..

“रियो डि जेनेरियो में 1992 में आयोजित पर्यावरण तथा विकास का संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (UNCED) विश्व जल दिवस की पहल में की गई। 22 मार्च याने विश्व जल दिवस। पानी बचाने के संकल्प का दिन। पानी के महत्व को जानने का दिन और पानी के संरक्षण के विषय में समय रहते सचेत होने का दिन। आँकड़े बताते हैं कि विश्व के 1.5 अरब लोगों को पीने का शुद्ध पानी नही मिल रहा है। प्रकृति जीवनदायी संपदा जल हमें एक चक्र के रूप में प्रदान करती है, हम भी इस चक्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। चक्र को गतिमान रखना हमारी ज़िम्मेदारी है, चक्र के थमने का अर्थ है, हमारे जीवन का थम जाना। प्रकृति के ख़ज़ाने से हम जितना पानी लेते हैं, उसे वापस भी हमें ही लौटाना है। हम स्वयं पानी का निर्माण नहीं कर सकते अतः प्राकृतिक संसाधनों को दूषित न होने दें और पानी को व्यर्थ न गँवाएँ यह प्रण लेना आज के दिन बहुत आवश्यक है।”

दो शब्द….

जल के बिना

दुनिया में जीवन

अकल्पनीय

* * *


पाँच हैं तत्व

सजीव जीवन में

जल प्रमुख

* * *

जल बचाना

संरक्षण सीखना

भविष्य निधि.

* * *

धन्यवाद !

मीनाक्षी श्रीवास्तव

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

harirawat के द्वारा
April 23, 2017

मीनाक्षी जी नमस्कार ! काम शब्दों में सब कुछ कह देना आपके लेखनी का कमाल है ! आपका लेख जनजागरण है, शुभ कामनाओं के साथ हरेंद्र

Shobha के द्वारा
March 28, 2017

प्रिय मीनाक्षी जी जल पर बहुत अच्छे विचार


topic of the week



latest from jagran